WHAT IS MSME? FULL FORM ,TYPES,BEST MEANING, LOAN IN HINDI 2020

WHAT IS MSME? एमएसएमई क्या होता है।?

एमएसएमई मतलब होता हैं शुक्ष्म , लघु और मध्यम उद्योग होता हैं । अगर हमे इसको आसान भाषा मे समझना है तो इसको आसान भाषा मे कहते है छोटे और मध्यम उद्योग या कारोबार । MSME एमएसएमई देश की अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान देता हैं। MSME भारत की GDP जीडीपी में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। एमएसएमई उद्योग स्थानीय स्तर पर किये जाने वाला कारोबार होता हैं। इस तरह का उद्योग कम लोगो के माध्यम से कम जगह पर आसानी से किया जा सकता हैं।

FULL FORM OF MSME ?एमएसएमई का पूरा नाम?

MSME का फुल फॉर्म होता हैं =  Ministry of Micro, Small & Medium Enterprises  ( माइक्रो , स्माल एंड मीडियम एंटरप्राइज)
इसे हिंदी में कहते है , शुक्ष्म , छोटे और मध्यम उद्योग ।

IMPORTANCE OF MSME? एमएसएमई का महत्व?

भारत की अर्थव्यवस्था में एमएसएमई msme का कुल प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष निर्यात में 45% हिस्सा है। केंद्रीय और राज्य सरकार और बैंकिंग एमएसएमई msme अधिनियम के तहत लाभ को प्राप्त करने के लिए एमएसएमई पंजीकरण होना आवश्यक है । इसके तहत आपको व्यापार में कई तरह के लाभ उपलब्ध होंगे जैसे:- ब्याज की कम दर , उत्पाद शुल्क में छूट , योजना कर सब्सिडी आदि । लेकिन छूट को प्राप्त करने के लिए आपको उद्योग आधार पंजीकरण कराने आवश्यक है।

TYPES OF MSME ? एमएसएमई के प्रकार ?

एमएसएमई msme शुक्ष्म , छोटे ,और मध्यम इस तीनो श्रेणियों के उद्योगों में से किसी भी उद्योग के अंतर्गत आ सकता हैं।। एमएसएमई msme उद्योग किसी भी अर्थव्यवस्था की रीढ़ होती हैं । यह सभी के लिए समान विकास और आर्थिक विकास को भडावा देने का कार्य करती हैं। तीनो श्रेणियों के एमएसएमई उधोग का वर्णन निम्नलिखित हैं:-

माइक्रो या शुक्ष्म उद्योग (micro enterprise) :- माइक्रो या शुक्ष्म उद्योग सबसे छोटी संस्था होती हैं , इसमे विनिर्माण व्यापार के अंतर्गत संयंत्र और मशीनरी में कम से कम 1 करोड़ तक का निवेश कर सकते हैं । जिसका टर्नओवर(turnover)5 करोड़ तक होना चाहिए।

small enterpriseलघु उद्योग:- लघु उद्योग के अंतर्गत हम छोटे विनिर्माण उद्योग के लिए संयंत्र और मशीनरी में 10 करोड़ निवेश कर सकते है, जिसका टर्नओवर (turnover) कम से कम 50 करोड़ होना चाहिए।

Medium enterprise मध्यम उद्योग:– मीडियम या मध्यम उद्योग के लिए सयंत्र और मशीनरी में 30 करोड़ का निवेश कर सकते है। जिसका टर्नओवर (turnover) कम से कम 100 करोड़ तक होना चाहिए।

How many types of MSME IN INDIA:

Msme उद्योग मुख्य रूप से दो प्रकार के होते है जैसे :-

(1) मैनुफैक्चरिंग उद्योग (Manufacturing Enterprise)

(2) सेवा उद्योग (Service Sector)

Manufacturing Enterpris मैनुफैक्चरिंग उद्योग:- मैनुफैक्चरिंग मतलब होता होता हैं ,कोई नई चीज को बनाना । और मैनुफैक्चरिंग उद्योग मतलब होता हैं , जिस जगह नई चीज का निर्माण करने का कार्य होता हैं।


मैनुफैक्चरिंग (manufacturing) अंग्रेजी शब्द होता हैं। इसका हिंदी में अर्थ होता है:-विनिनिर्माण होता हैं। विनिनिर्माण का अर्थ होता हैं किसी चीज का निर्माण करना। msme (एमएसएमई) के मैनुफैक्चरिंग उद्योग के अन्तर्गत विभिन्न तरह के उपयोगी प्रोडक्ट का निर्माण किया जाता हैं।उदहारण के तौर पर हम ब्रेड बनाने की फैक्ट्री ।

Service Sector सर्विस सेक्ट:- सर्विस सेक्टर में मुख्य रूप से सेवा देने का कार्य किया जाता है। इसे सेवा क्षेत्र के नाम से भी जाना जाता हैं। इस सेक्टर में लोगो और संस्थाओ को सर्विस देने का कार्य किया जाता हैं।


MSME एमएसएमई उद्योग के तहत सर्विस उद्योग की बात करे तो इसमें ट्रेवल एजेंसी , रेस्टोरेंट , कर्मचारी उपलब्ध करने तक का बिज़नेस सर्विस सेक्टर के रूप में जाना जाता हैं।

Profit of MSME Registration Certificate:एमएसएमई में उद्योग का पंजीकरण होने से मिलने वाले लाभ:-

Profit from banks बैंको से लाभ:- सभी बैंक और अन्य वितीय संस्था एमएसएमई को जानते हैं इसलिए आपको आने व्यवसाय के लिए ऋण कम ब्याज दर पर आसानी से मिल सकता हैं। एमएसएमई को दी हुई ऋण पर ब्याज की दर सामान्य व्यापार की ब्याज दर से 1 या 1.5 प्रतिशत कम होती है।

Profit of Registration

State government exemption राज्य सरकार द्वारा छूट:- राज्य उन लोगो को बिजली , कर और उद्योगिक सब्सिडी देती है , जिन्होंने अपने व्यापार को एमएसएमईडी अधिनियम के अंतर्गत पंजीकृत किया है। उन्हें राज्य सरकार द्वारा विशेष रूप से बिक्री कर में छूट मिलती हैं।

Tax benefits कर लाभ:- व्यवसाय कर आधार पर एमएसएमई में पंजीकृत होने के बाद एक्ससाइज छूट योजना का लाभ ले सकते हैं, व्यवसाय के शुरुवात के कुछ वर्षों में…


PROCESS OF MSME REGISTRATION :एमएसएमई में पंजीकरण का तरीका:-

There are two ways you can register in MSME ?

First offline and second online.

MSME में आप दो तरह से पंजीकरण कर सकते हैं । पहला ऑफलाइन और दूसरा ऑनलाइन ।

(MSME registration offline) ऑफलाइन पंजीकरण:-

जिस विभाग के लिए आप उद्योग शुरू कर रहे हैं, उसके साथ आवेदन पत्र में जो आपकी सूचना है उसे भर ले , उसके बाद उससे संबंधित दस्तावेज के साथ एमएसएमई आफिस में पंजिकृत कर ले। दस्तावेज और आवेदन को जमा करने से पूर्व किसी विशेषज्ञ से सारे दस्तावेज प्रमाणित कर ले , उसके बाद आवेदन को जमा कर दे, आप जिस जिले में अपना उद्योग शुरू कर रहे है , वहां के जिले उद्योग में केंद्र में जाकर आवेदन जमा कर सकते हैं। इसके बाद आपके आवेदन को आपके दस्तावेज के साथ एमएसएमई रजिस्ट्रार के पास फ़ाइल किया जाएगा , फिर विशेषज्ञ उसका सत्यापन करेंगे । सत्यापन के दौरान आपके सभी दस्तावेज और आवेदन पत्र सही मालूम होने के बाद आपका आवेदन स्वीकृत हो जाएगाज़ उसके बाद आपको एमएसएमई प्रमाण पत्र जारी कर दिया जाएगा और आपको कोरियर या ईमेल के माध्यम से सूचित कर दिया जाएगा।

MSME Registration Online (ऑन लाइन पंजीकरण):-

भारत सरकार द्वारा दिये गए पोर्टल या लिंक पर जाकर दिए गए निर्देश के अनुसार आधार संख्या , मालिक का नाम , आदि को भरने के बाद आवेदन जमा कर दे।

Registration


उसके बाद आपको पंजिकृत नंबर या ईमेल पर एक ओटीपी (otp) आएगा , जिसे आपको आवेदन में भरना होगा और नीचे दिए गए कैप्चा को आवेदन में डालकर जमा करना होगा।
और जब आप एमएसएमई (msme) उद्योग शुरू करते हैं , तब आपको एक आखिरी पंजीकरण के लोए आवेदन करना होता हैं , जिसके बाद आपको एक अंतिम एमएसएमई प्रमाण पत्र दिया जाता हैं। उत्पादन शुरू होने के बाद आप स्थायी प्रमाण पत्र के लिए आवेदन कर सकते है।

How to apply MSME Loan? (एमएसएमई लोन के लिए आवेदन कैसे करे?)

MSME लोन के लिए दो तरह से आवेदन कर सकते हैं। ऑफलाइन एवं ऑनलाइन । ऑनलाइन आवेदन के लिए msme.gov.in में जाकर आवेदन कर सकते हैं।

Who can apply for MSME loan ? (एमएसएमई लोन के लिए आवेदन को कर सकता हैं?

राज्य या सेंट्रल की कोई भी आर्गेनाइजेशन (organization) इंडस्ट्री / एंटरप्राइज ।
यह लोन उसी को मिल सकता हैं ,जो कंपनी एक्ट के तहत रजिस्टर हो । जो आर्गेनाइजेशन (organization ) कम से कम 3 साल से काम कर रही हो और उसका रिकॉर्ड (record) अच्छा रहा हो । जिस कंपनी ने पिछले 3 साल में लगातार ऑडिट (audit) भरा हो ।

Limit of MSME Loan एमएसएमई लोन की लिमिट:-

Very Small Businessशुक्ष्म के लिए1 करोड़
Small Businessलघु के लिए10 करोड़
Large Businessमध्यम के लिए20 करोड़

How much is the loan available under MSME? एमएसएमई के तहत लोन कितना मिलता हैं?

एमएसएमई के तहत लोन 1 करोड़ से 20 करोड़ तक मिलता हैं।

What is the interest rate for taking an MSME loan?एमएसएमई लोन लेने पर ब्याज (interest) रेट क्या हैं?

एमएसएमई लोन पर ब्याज दर 8.30 – 6.25 के बीच है।

MSME Registration Requirement Documents (एमएसएमई में लगने वाले दस्तावेज)?

आदि (इनमे से कोई भी एक पहचान प्रमाण पत्र के रूप में आपके पास मौजूद होना आवश्यक है।)
पासपोर्ट साइज की फ़ोटो
अन्य दस्तावेज (other document)

अगर आप किराये की संपत्ति पे उद्योग करते हैं , तो किराया समझौता का दस्तावेज
स्वामित्व वाली सम्पत्ति के लिए सौदे का दस्तावेज या सम्पत्ति का दस्तावेज एफिडेविट (शपथपत्र)
घोषणा दस्तावेज
एन ओ सी
साक्षी के रूप में 2 व्यक्ति।

यह भी ढ़े एफएसएसआई से जरूरी है मंजूरी लेना?

उम्मीद है आपको हमारा ये article अच्छे से समझ आया होगा।

2 thoughts on “WHAT IS MSME? FULL FORM ,TYPES,BEST MEANING, LOAN IN HINDI 2020”

Leave a Comment